बंगाल टाइगर के बारे में बताओ – Tell About Bengal Tiger – 7

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ :- मैं आशा करता हूं आप लोग बहुत अच्छे होंगे तो आज मैं आप लोगों को बंगाल टाइगर के बारे में कुछ रोचक जानकारियां दूंगा तो चलिए शुरू करते हैं बंगाल टाइगर भारत में पाए जाने वाली सबसे सुंदर और रियल जानवरों में से एक हैं उनके शरीर पर छोटे बालों का एक डिजाइन होता है.

जो की सुनहरे भूरे रंग के होते हैं बंगाल टाइगर्स का शरीर मांसपेशियों से बना होता है जिसके कारण वह बहुत ही शक्तिशाली होते हैं लेकिन भारत में ऐसे बहुत बाघ पाए जाते है जो कि इनके मुकाबले बहुत ही कम शक्तिशाली और ना ही अधिक फुर्तीली होती है

निचले जबड़े और सफेद लंबी मूछ के चारों विकास के साथ उनका बड़ा सर होता है उनके पास 10 सेंटीमीटर तक बड़े दांत होते हैं सुनने और सुनने की शक्ति बहुत अच्छी होती है बंगाल टाइगर अकेले में रहना पसंद करते हैं और आम तौर पर शांत रहते हैं उनके क्षेत्र का आकार वह आमतौर पर पेशाब और पंजे के निशान के साथ अपने क्षेत्र को चिन्हित करते हैं बंगाल टाइगर बहुत ही खतरनाक जानवर होते हैं वे दिन के दौरान चारों ओर घूमते हैं और रात के दौरान शिकार करते हैं

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ – Tell About Bengal Tiger

यह बहुत अच्छे तैराक भी होते हैं और अपने बड़े शरीर होने के बावजूद बहुत आसानी से पेड़ों पर चढ़ जाते हैं न बंगाल टाइगर नाक से पूछ तक 3 मीटर तक बड़े होते हैं और इनका वजन 180 से 300 किलोग्राम के बीच होता है इस प्रजातियों की महिलाओं का वजन 100 से 160 किलोग्राम के बीच होता है और ढाई मीटर तक की लंबाई हो सकती है

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ अपना भोजन कौन जानवर को बनाते है

अब तक के सबसे बड़े रॉयल बंगाल टाइगर का वजन लगभग 405 किलोग्राम पाया गया है रॉयल बंगाल टाइगर मांसाहारी होते हैं वह मुख्य रूप से मध्यम आकार के शाकाहारी जानवर जैसे चीतल हिरण नीलगाय भैंस और गौर का शिकार करते हैं यह शिकार करने के लिए चुपके से हमले का उपयोग करते हैं यह तब तक इंतजार करते हैं जब तक कि उनके करीब नहीं होते हैं.

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ - Tell About Bengal Tiger

यह रीड की हड्डी को अलग करके या तो शिकार के गले में गले की नस को काटकर घायल कर देते हैं और उसे खा जाते हैं रॉयल बंगाल टाइगर एक बार में 30 किलोग्राम तक का मांस खा सकता है

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ बिना भोजन के कितना दिन जीवित रह सकते है

बंगाल टाइगर बिना भोजन के तीन सप्ताह तक जीवित भी रह सकते हैं.बंगाल टाइगर्स भारत के कई नेशनल पार्क में निवास करते हैं यह खासकर घास के मैदाने और सुखी झाड़ियां में रहते हैं कर्नाटक में बांदीपुर नेशनल पार्क में 408 रॉयल बंगाल टाइगर्स की सबसे अधिक संख्या पाई जाती है और इसके बाद उत्तराखंड और मध्य प्रदेश में पाए जाते हैं

भारतीय संस्कृति में बाघों को हमेशा प्रमुख स्थान दिया गया है हिंदी पौराणिक कथाओं और वैदिक युग में बाघ शक्ति का प्रतीक था रॉयल बंगाल टाइगर को भारतीय मुद्रा नोटों के साथ डाक के टिकटों में चित्रित किया गया है.

बंगाल टाइगर के बारे में बताओ - Tell About Bengal Tiger - 7

मैंने आपको बंगाल टाइगर के बारे में बताओ के बारे में कुछ रोचक जानकारी बताया है मुझे आशा है आपको पसंद और साथ में उपयोगी साबित हुआ होगा धन्यवाद.

मेरे प्रिय दोस्तों आप सभी को ऐसे ही रोचक जानकारी हेतु फिर से अपना साइट ksrd.in इस पर विजिट करे और अपनी जानकारी को बढ़ाते रहे.

Leave a Reply